Tag Archive | लघुकथा

कांटा

एक दार्शनिक ध्यान-मग्न अवस्था में चलते-चलते बड़बड़ाए— ‘अध्यात्म की खीर में एक ईश्वर एक कांटा है.’ पीछे चलते कुत्ते ने सुना तो सोच में पड़ गया. उसने दिमाग लड़ाया. लाख सोचा. पर दार्शनिक की उक्ति का रहस्य उसकी समझ में न आया. जितना वह सोचता उतना ही उलझता जाता. दार्शनिक से पूछने के लिए वह […]

Advertisement

Rate this: