Tag Archive | ओमप्रकाश कश्यप का उपन्यास

भिखारी और ईश्वर

एक भिखारी हाथ में रोटी लिए मंदिर के द्वार पर पहुंचा और उसकी सीढ़ियों पर बैठकर खाने लगा. सहसा पीछे आहट हुई. भिखारी ने गर्दन घुमाई, देखा—ईश्वर है. भिखारी रोटी खाने में जुट गया. ‘तुम मेरे नाम पर रोटी मांगकर लाए हो, मुझसे पूछोगे नहीं?’ ईश्वर का स्वर शिकायती था. ‘पूरे दिन पुजारी तुम्हारे नाम […]

Advertisement

Rate this:

विचारहीन क्रांतियों का भविष्य

इसी दिसंबर के दूसरे सप्ताह में दक्षिणी–पूर्वी चीन में मछुआरों के गांव वुकान के सैकड़ों किसान वहां की केंद्र सरकार के विरोध में सड़क पर उतर आए. देखते ही देखते प्रदर्शनकारियों की संख्या 20000 तक पहुंच गई. गुस्सा एक ग्रामीण की पुलिस हिरासत में हुई मौत पर भड़का था. स्थानीय प्रशासन का कहना था कि […]

Rate this:

दंश : तैइसवीं किश्त

धारावाहिक उपन्यास जमींदारी समाप्त हो चुकी थी. मगर पूंजी के साथ नए किस्म का सामंतवाद अपनी जगह बना रहा था. विल्मोर का कारोबार बड़ी तेजी से जम रहा था. केवल चार साल के छोटे से अंतराल में कंपनी की सालाना बिक्री दो गुनी हो चुकी थी. कंपनी को अपने नए कारखाने के लिए जमीन की […]

Rate this:

दंश : बाइसवीं किश्त

दंश % बाइसवीं किश्त धारावाहिक उपन्यास मैं जानता हूं बेटा कि तू मुझसे नाराज है. मेरे वर्ताब के लिए तू मुझे जी-जान से कोस रहा होगा. इसका तुझे पूरा हक है. पूरी तरह सच्चा है तेरा गुस्सा. तेरी नफरत, तेरी हर शिकायत और तेरा प्रत्येक इल्जाम मेरे सिर-माथे. तेरा कुसूरवार हूं मैं. आज से नहीं […]

Rate this:

दंश : इकीसवीं किश्त

दंश : धारावाहिक उपन्यास जीवन को जो खेल समझते हैं, वे खिलवाड़ का शिकार बनकर रह जाते हैं. सवेरे सलीम के जगाने पर आंखें खुलीं. वह देर से मुझे खोज रहा था. उसी ने बताया कि मेरा मालिक प्लेटफार्म पर आ चुका है. मुझे कोसता हुआ वह भट्टी सुलगाने में व्यस्त है. तब आंखें मलते […]

Rate this:

दंश: बीसवीं किश्त

धारावाहिक उपन्यास बौराया हुआ आदमी खेद प्रकट करते समय भी पचास बार सोचता है. उस घटना का मेरे मन पर गहरा प्रभाव पड़ा था. एकदम अमिट….अभूतपूर्व और अनोखा! मेरा मन वहां के माहौल के प्रति वितृष्णा भरा था. जिस बड़ीम्मा को देखकर मुझे अपनी मां याद आने लगती, उससे भी मुझे सैकड़ों शिकायतें थीं. जिनका […]

Rate this:

दंश : उनीसवीं किश्त

धारावाहिक उपन्यास और सच होने के कारण शायद कुछ कड़वी भी. बड़ीम्मा ने जाने क्या देखा था मुझमें, मैं कभी समझ नही पाया. संभवतः वह मुझे चेतावनी देना चाहतीं कि जिस दुनिया में अकेला घिसटने का प्रयास कर रहा हूं, वह एकदम आसान नहीं है. उसमें घिसटने के लिए भी कौशल की जरूरत पड़ती है. […]

Rate this:

दंश : अठारहवीं किश्त

धारावाहिक उपन्यास   समस्याएं चुनौती ही नहीं बनतीं, आदमी को जीना भी सिखाती हैं. कई दिनों की अतृप्त आत्मा….गर्मागरम भोजन. बड़ीम्मा का स्नेह–सत्कार. भटकाव के बाद कुछ देर का आराम. जिंदगी बहुरंगी होती है. पर उस क्षण दुनिया की सभी रंगीनियां उस भोजन में विराजमान थीं. शायद इसलिए कि कई दिन के अंधकार के बाद […]

Rate this:

दंश : सतरहवीं किश्त

धारावाहिक उपन्यास और सच होने के कारण शायद कुछ कड़वी भी. बड़ीम्मा ने जाने क्या देखा था मुझमें, मैं कभी समझ नही पाया. संभवतः वह मुझे चेतावनी देना चाहतीं कि जिस दुनिया में अकेला घिसटने का प्रयास कर रहा हूं, वह एकदम आसान नहीं है. उसमें घिसटने के लिए भी कौशल की जरूरत पड़ती है. […]

Rate this:

दंश : 16वीं किश्त

धारावाहिक उपन्यास   समस्याएं चुनौती ही नहीं बनतीं, आदमी को जीना भी सिखाती हैं. कई दिनों की अतृप्त आत्मा….गर्मागरम भोजन. बड़ीम्मा का स्नेह–सत्कार. भटकाव के बाद कुछ देर का आराम. जिंदगी बहुरंगी होती है. पर उस क्षण दुनिया की सभी रंगीनियां उस भोजन में विराजमान थीं. शायद इसलिए कि कई दिन के अंधकार के बाद […]

Rate this: