टिप्पणी करे

आधुनिक लोककथा/ईश्वर की मौत

ईश्वर की मौत

देवनगरी से संदेश वायरल हुआ कि बीती रात ईश्वर दिवंगत हुआ. अगले सात दिनों तक तीनों लोकों में शोककाल लागू रहेगा. इस दौरान न तो इंद्रलोक में अप्सराओं का नृत्य होगा. न कोई हवन, कीर्तन, पूजापाठ वगैरह. संदेश की प्रति आधिकारिक रूप से भी तीनों लोकों में पहुंचा दी गई.

नारद चाहते तो शोककाल के नाम पर छुट्टी मार लेते. लेकिन चाहे जो भी हो, न तो सागर पर तरंगों का आनाजाना रुकता है, न नदियां अपना प्रवाह रोकती हैं. नारद भी ऐसे ही थे. सो निकल पड़े मृत्युलोक का जायजा लेने. वहां जो देखा उससे आंखें फटी की फटी रह गईं. शोकसंदेश का मृत्युलोक पर कोई असर नहीं था. मंदिर पहले की तरह गुलेगुलजार थे. बाहर श्रद्धालु कतार लगाए खड़े थे, भीतर पूजापाठ, भजनकीर्तन, यज्ञ आदि कर्मकांड चालू थे. हैरान नारद नगर के सबसे बड़े मंदिर के सबसे बड़े पुजारी से मिले—

मालूम है, कल रात ईश्वर नहीं रहे.’

हां, सुना तो था. एक पत्र भी मिला था, उधर पड़ा है, देख लो.’ पुजारी ने लापरवाही से एक ओर इशारा किया. वहां पुराने ग्रंथों के ढेर पर एक नया लिफाफा पड़ा था. उन ग्रंथों पर धूल जमी थी. उन्हें पहले दीमक ने खाया था. इन दिनों चूहे उनपर दांत आजमा रहे थे.’

शोककाल की घोषणा हो चुकी है. सारे उत्सव, समारोह, पूजापाठ, जश्न रोक दिए गए हैं. आप भी श्रद्धालुओं तक खबर पहुंचा दें.’ नारद ने कहा, फिर कुछ सोचकर दरवाजे की ओर मुड़े, ‘ठहरिए, मैं ही बताए देता हूं.’

! यह गजब मत करना….’ पुजारी ने टोका.

क्यों!’

देवलोक में क्या होता है, ये देवता जानें, हमारा भगवान् तो सिर्फ यह मूर्ति है. तुम देख सकते हो, यह जैसे कल मुस्करा रही है, वैसे आज भी मुस्करा रही है. बस अब आप प्रस्थान करें. श्रद्धालुओं की कतार और लंबी हुई तो सड़क पर जाम लग जाएगा.’

बातों के धनी नारद को कोई जवाब न सूझा.

हत्यारा

उस समय जब ईश्वर अपने भक्तों से घिरा हुआ था, और भक्त ‘मुक्तिमुक्ति’ की रट लगा रहे थे—किसी ने संविधान की एक प्रति उसके आगे लाकर रख दी. ईश्वर ने उसे आगेपीछे देखा, दोचार पेज उलटेपलटे, फिर चुपचाप किनारे कर दिया—

ये सब नए जमाने के चोंचले हैं. हमारे जमाने में तो एक ही पुस्तक थी—‘मनुस्मृति.’

क्या आपने उसे पढ़ा था?’ संविधान लाने वाले पत्रकार ने पूछा.

हमारे गुरुदेव ने पढ़ा होगा.’

आपने?’

हमें तो बस मरनामारना सिखाया था. गुरुदेव ने जबजैसा कहा, हम वैसे ही भिड़ गए. एक बार गुरुदेव ने कहा कि जंगल में शूद्र शंबूक वेदाध्ययन कर रहा है, उसे मार डालो, हमने….’

आपने पूछा नहीं कि ग्रंथ तो अध्ययनमनन के लिए ही होते हैं, अगर शंबूक उन्हें पढ़ रहा था तो पढ़ने देते. उसमें पाप कैसा?’

ये हम नहीं जानते. वैसे भी शंबूक से हमारी कोई जाती दुश्मनी तो थी नहीं. हमें तो बस इतना पता है कि गुरुजी ने उसे मारने का आदेश दिया और हमने उसे मार डाला.’

बगैर सोचेसमझे मार डाला?’

सोचनेविचारने का काम तो गुरुदेव का था.’ ईश्वर तर्क से बचना चाहता था.

तुम तो राजा थे. एक निर्दाेष की हत्या करने से इन्कार कर सकते थे?’

पहली बार ईश्वर हंसा, बोला—‘इन्कार कर देते तो हमें ईश्वर कौन बनाता!’

आगे बातचीत के लिए कुछ था नहीं. पत्रकार ने संविधान को उठाया और वापस चल दिया. कुछ दूर चलने के बाद उसने मुड़कर देखा, भक्तमंडली में से अनेक उसके पीछेपीछे आ रहे थे.

ओमप्रकाश कश्यप

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: