Archive | जून 2012

You are browsing the site archives by date.

डॉ. सुरेंद्र विक्रम का बालसाहित्य

किसी भी भाषा अथवा विधा की समृद्धि उसके शोध प्रबंधों की संख्या से आंकी जा सकती है. वे इस बात का प्रमाण होते हैं कि साहित्यकारों तथा बुद्धिजीवियों ने अपनी भाषा को कितना सहेजा, संवारा और समृद्ध किया है. ताकि समकालीनों के अलावा दूसरे भाषा–भाषी, साथ में आने वाली पीढ़ियां भी उससे लाभान्वित हो सकें. […]

Advertisement

Rate this: