टिप्पणी करे

आराधक


रोटी के लिए दरदर भटकने वाले

बीमारखजेडे़, आवारा कुत्ते से

पूछा मैंनेदेखा है ईश्वर को कभी?

हां, बोला वह बडे़ जोश से

होता है वह अलशेसियनसा

प्यारा, खूबसूरत, सदा जवान

चालाक और फुर्तीला

बुद्धिमान ओर ताकतवर

बेहद वफादार भी

न बहुत मोटा न पतला

न बहुत नाटा न ऊंचा

सीपीसा गोलमटोल

चमकदार आंखों वाला छरहरा

समय से भी तेज रफ्तार वालाश्वानश्रेष्ठ

मेरी तरह दरदर नहीं भटकता वह

रोटी के मामूली टुकड़े की खातिर

नहीं सहता डंडे, दुत्कार

सुबहदोपहरशाम

मिलता है सुस्वादु भोजन उसे

मैंने बिल्ली से भी पूछा

कुत्ते ने जो भी लक्षण बताए

वैसा कोई कुत्ता जो असलियत में ईश्वर है

दिखा है कभी?

सुनकर हंस पड़ी बिल्ली

इतना नादान नहीं है ईश्वर

कि जनम ले तो धारण करे कुत्ते का रूप

दरदर भटकता फिरे रोटी के टुकड़े को

ईश्वर तो है बहुत कुछ बिलौंटे जैसा

गोल बड़ीबड़ी आंखों, भरीभरी देह

तेज दिमागफुर्तीला

जो उल्टा सकता है बड़े से बड़ा मांट

उसको नहीं करना पड़ता शिकार

चूहे स्वयं चले आते हैंमुक्ति की चाहत में

जहां वह रहता हैबहती हैं वहां

दूधदही की नदियां

सपने में कई बार कर चुकी हूं दर्शन

उस महाविभूति के

तस्वीर लिए रहती हूं आंखों में हमेशा

ध्यान करो तुम भी उसका

ताकि कर सको दर्शन

दुनिया के सिरजनहार के

कंचनसी देह जिसकी दिपदिप दमकती है

भेड़बकरीचूहाचमकादड़

उल्लूकौआतीतरबटेर

गधाघोड़ायहां तक कि जमीन पर रेंगने वाला गुबरीला कीड़ा भी

जहांजहां मैं गयामिला ईश्वर के वंशज

और उसके प्रतिरूप से

झूठे हैं वे सभीकहा था पंडित ने

ईश्वर तो है वैसा ही

जैसा बसाया है मैंने मंदिर में

मूरत में

मैं ईश्वर की बजाए

मिलता हूं ईश्वर की संतति से हर रोज

सुनता हूं उनके बड़ेबड़े दावे

और घबराकर

ईश्वर से मिलने का

छोड़ देता हूं इरादा

++++

हर आराधक

स्वार्थ के अनुरूप

रचता है अपना देवता

एक नहीं अनेक

जरूरत पड़ने पर

लगाता है देवताओं की मंडी

फिर उतरता है मंडी में

कभी बनकर खरीदार

कभी दर्शक

कभी बनकर शिकारी

                             ओमप्रकाश कश्यप

.

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: