Archive | फ़रवरी 2011

You are browsing the site archives by date.

दंश : उनीसवीं किश्त

धारावाहिक उपन्यास और सच होने के कारण शायद कुछ कड़वी भी. बड़ीम्मा ने जाने क्या देखा था मुझमें, मैं कभी समझ नही पाया. संभवतः वह मुझे चेतावनी देना चाहतीं कि जिस दुनिया में अकेला घिसटने का प्रयास कर रहा हूं, वह एकदम आसान नहीं है. उसमें घिसटने के लिए भी कौशल की जरूरत पड़ती है. […]

Advertisement

Rate this: