2 टिप्पणियां

तरकीब

कुत्ता राजधानी पहुंचा और बस्ती की ओर निकल गया जहां नेता ही नेता रहते थे. उस समय वह चौड़ी- सुनसान सड़क पर खड़ा था. चारों ओर बंगले थे. कुत्ते को वहां की शांति कुछ अजीब-सी लगी. वह देर तक सड़क के बीचोंबीच खड़ा रहा. गाड़ियां आतीं, मगर बिना रुके सरसराती हुईं, चली जातीं. खड़े-खड़े उसको भूख भी सताने लगी.

‘मैं अगर कुछ देर और इसी तरह रहा तो भूख से बेहोश होकर धरती पर जा पड़ूंगा.’ कुत्ते ने मन ही मन सोचा. फिर अपने ही खयाल से डर गया. सामने एक ऊंची इमारत की ओर देखकर वह जोर-जोर से भौंकने लगा.

‘क्या बात है, क्यों शोर मचा रखा है.’ उसकी आवाज सुनकर एक सड़कछाप कुत्ता सामने आकर भौंकने लगा.

‘तुम्हें क्या?’ सड़कछाप कुत्ते के सवाल का जवाब देने में कुत्ते को अपनी हेठी महसूस हुई. लेकिन भूख के एहसास ने अगले ही पल उसे समझौता करने को विवश कर दिया—

‘यार, एक बात बताओ, क्या तुम प्रतिदिन उपवास रखते हो?’

‘ऐसा क्यों कहते हो?’

‘जब पूरे दिन घरों के दरवाजे बंद रहेंगे तो खाना कब मिलेगा.’

‘घबरा मत, ये लोग भूखे नंगों के प्रतिनिधि जरूर हैं, पर भूखा-नंगा यहां कोई नहीं रहता.’

‘और यदि कोई मेरी तरह भूखा हो तो?’

‘तो तरकीब से काम लेना पड़ता है…’

‘मुझे नहीं बताओगे?’

‘ठीक है, तुम जरा रुको…’ कहता हुआ कुत्ता बंगले के सामने जाकर भौंकने लगा. कुछ देर बाद भीतर से एक आदमी निकला. सड़कछाप कुत्ते ने उससे कुछ कहा. वह आदमी तेजी से भीतर गया. थोड़ी देर बाद ही थाल में भोजन-सामग्री लिए नौकर बाहर आया. उसने वह सामग्री कुत्तों के आगे डाल दी.

‘तुमने उस आदमी से क्या कहा था?’ डकार लेने के बाद कुत्ते ने सड़कछाप कुत्ते से पूछा.

‘मैंने उससे कहा था कि तुम नेता जी के मतदाता क्षेत्र से आए हो. देखभाल अच्छी हुई तो वहां जाकर उनका खूब बखान करोगे…परिणाम तुम देख ही रहे हो.’

इसपर दोनों कुत्ते साथ-साथ हंसने लगे.

ओमप्रकाश कश्यप

Advertisement

2 comments on “तरकीब

  1. waah bahut hee behatareen…kamaal kaa maaraa hai..bhigaa bhigaa kar ….bahut umdaa rachnaa….maja aa gaya…

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: